Dr.A.P.J Abdul Kalam Biography in Hindi | Dr.A.P.J Abdul Kalam की प्रेरक जीवनी-

4
76
Dr.A.P.J Abdul Kalam Biography in Hindi
Dr. A.P.J Abdul Kalam

Dr.A.P.J Abdul Kalam Biography in Hindi:  आज हम बात करेंगे भारत के 11वे  राष्ट्रपति Dr.A.P.J Abdul Kalam जी की वे एक ऐसी शख़्शियत है। जिन्होंने अपना सारा जीवन देश की सेवा में लगा दिया। करोड़ो विद्यार्थियों के आदर्श (idol) बने , अपने  प्रभावशाली व्यक्तित्व और अपने कथनो से करोड़ो हिन्दुस्तनिओ की प्रेरण बने। उन्होंने भारत के कुछ महत्वपूर्ण संगठन जैसे  DRDOऔर ISRO में काम किया है, और वे भारत के अंतरिक्ष कार्यक्रम एवं मिसाइल विकास कार्यक्रम से भी जुड़े थे इसीलिए उन्हें  “मिसाइल मैन ” भी कहा जाता है। तो चलिए जानते है Dr.A.P.J Abdul Kalam जी की रोचक जीवनी,  “Dr.A.P.J Abdul Kalam Biography in Hindi”.

Dr.A.P.J Abdul Kalam Biography in Hindi | Dr.A.P.J Abdul Kalam की प्रेरक जीवनी-

 

Dr.A.P.J Abdul Kalam Biography in Hindi
Dr.A.P.J Abdul Kalam

संक्षिप्त-परिचय 

नाम : अबुल पकिर जैनुलाअब्दीन अब्दुल कलाम
जन्म : 15 अक्टूबर 1931, रामेश्वरम , तमिलनाडु
मृत्यु : 27 जुलाई 2015 , शिलॉन्ग , मेघालय
विद्या अर्जन:  सेंट जोसेफ कॉलेज, तिरूचिरापल्ली, मद्रास इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी
धर्म : इस्लाम
पेशा : प्रोफेसर, लेखक, वैज्ञानिक एयरोस्पेस इंजीनियर

प्रारंभिक जीवन-

Dr.A.P.J Abdul Kalam का जन्म 15 अक्टूबर 1931 को धनुषकोड़ी गांव (रामेश्वरम , तमिलनाडु) में एक मध्यमवर्ग के मुस्लिम परिवार हुआ।  उनके पिता जैनुलाअब्दीन एक नाविक थे और उनकी माता अशिअम्मा एक गृहणी थी , उनके पिता न तो  ज़्यादा  पढ़े -लिखे थे और न ही ज़्यादा पैसे वाले, वे एक मध्यम परिवार से थे। उनके पिता नाव मछुआरो को किराये पे दिया करते थे। अब्दुल कलाम जी एक संयुक्त (joint) परिवार में रहते थे। अब्दुल कलाम जी का पर उनका गहरा प्रभाव पड़ा यूं  तो वे ज़्यादा पढ़े – लिखे नहीं थे।  लेकिन उनके दिये संस्कार और लगन उनके बहुत काम आयी। उनके परिवार की आर्थिक स्थिति उतनी ठीक नहीं होने के कारण उन्हें छोटी उम्र से ही काम करना पड़ा। वे अपने पिता की मदद करने के लिए समाचार पत्र वितरण का कार्य करते थे। वैसे तो अब्दुल कलाम जी अपने स्कूल के दिनों में पढाई-लिखाई में सामान्य थे। लेकिन हमेशा नया सीखे के लिए तत्पर रहते थे। उनके अंदर सिखने की लगन थी, वे पढाई-लिखाई में काफी ध्यान देते थे. Abdul Kalam जी ने अपनी शिक्षा का आरम्भ रामेश्वरम के एक प्राथमिक विद्यालय से किया। उन्होंने अपने स्कूल की पढाई रामनाथपुरम स्च्वार्त्ज़ मैट्रिकुलेशन स्कूल (Schwartz Higher Secondary School) से पूरी की.

Abdul Kalam जी के शिक्षक इयादुराई सोलोमन ने उनसे कहा था – जीवन की सफलता  एवं  परिणाम  प्राप्त  करने  के लिए  तीव्र इच्छा , आस्था , अपेक्षा  इन  तीनो  शक्तियों  की  भलीभांति  समझ  लेना  और उन  पर  प्रभुत्व  स्थापित  करना  चाहिए ।  “

उन्होंने स्नातक (bachelor degree) की पढाई करने के लिए  St. Joseph College में दाखिला लिया जो की तिरूचिरापल्ली में स्थित है। जहाँ उन्होंने 1954 में भौतिक विज्ञान में स्नातक किया।  उन्हें पढाई-लिखाई कुछ नया सिखने का हमेशा से शौक था इसलिए वे आगे की पढाई करने के लिए वे वर्ष 1955 में मद्रास चले गए, जहाँ उन्होंने मद्रास इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी (Madras institute of Technology) से  एयरोस्पेस इंजीनियरिंग की शिक्षा ग्रहण की और वर्ष 1960 में उन्होंने अपनी इंजीनियरिंग की पढाई पूरी की। ‘ Dr.A.P.J Abdul Kalam Biography in Hindi

 .कैरियर – 

Dr.A.P.J Abdul Kalam Biography in Hindi

Dr.A.P.J Abdul Kalam जी ने Madras institute of Technology से  एयरोस्पेस इंजीनियरिंग की शिक्षा पूरी करने के बाद भारतीय रक्षा अनुसंधान एवं विकास संसथान ( DRDO ) में प्रवेश लिया। जहाँ उन्होंने हावरक्राफ्ट परियोजना पर काम किया। पर DRDO में अपने कार्यो से असंतुष्ट होने के कारण उन्होंने इसे छोड़ दिया।  इसके बाद उन्होंने वर्ष 1962 में वे भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन ISRO  में प्रवेश किया।  

ISRO में  Abdul Kalam जी ने कई परियोजनओं (projects ) में सफलतापूर्वक काम किया। जिनमे से सबसे महत्वपूर्ण था भारत का प्रथम उपग्रह “रोहिणी”, जिसे  जिसे जुलाई 1980 में सफलतापूर्वक अंतरिक्ष में स्थापित किया गया था। Abdul Kalam जी की इसी सफलता के बाद भारत नहीं अंतराष्ट्रिय अंतरिक्ष क्लब का सदस्य बन पाया। यह अब्दुल कलाम जी के कैरियर का एक अहम् मोड़ था। और जब उन्होंने Satellite Launch Vehicle पर काम शुरू किया तब उन्हें लगा वे वही काम कर रहे है. जो वे करना चाहते थे , जिन काम में उनका मन लगता है। Dr.A.P.J Abdul Kalam Biography in Hindi


“अपने  कार्य  से सफल  होने  के  लिए  आपको  एकाग्रचित  हो  कर  अपने  लक्ष्य  पर ध्यान  लगाना  होगा  “

                                                                                                -Dr.A.P.J Abdul Kalam


वैज्ञानिक जीवन –

वर्ष 1960 में वे भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन ISRO  से जुड़े।   ISRO कार्यकाल के दौरान ही अब्दुल कलाम जी  ने बहुत सारी और भी उपलब्धिया हासिल की जैसे – वर्ष 1963-64 के दौरान उन्होंने अमेरिका के अंतरिक्ष संगठन  NASA की यात्रा , प्रसिध्द परमाणु वैज्ञानिक राजा रमन्ना के साथ मिल कर भारत का पहला परमाणु परिक्षण किया और गाइडेड मिसाइल को डिज़ाइन किया। 

इन सब के पश्चात Dr.A.P.J Abdul Kalam जी अपने कार्यों और सफलता से बहुत प्रसिध्द हो गए हो गए।  और दुनिया भर के प्रसिध्द वैज्ञानिको में उनका नाम गिना जाने लगा। उनके कार्य की प्रसिध्दी इतनी बढ़ गयी थी की उन्हें तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी ने अपने कैबिनेट के मंजूरी के बिना ही उन्हें गुप्त परियोजनाओ पर कार्य करने की अनुमति दे दी थी। 

भारत सरकार ने Integrated Missile Development Program का प्रारम्भ Dr.A.P.J Abdul Kalam जी की देख-ऱेख में किया गया। जिनमे वे प्रमुख कार्यकारी थे। इस परियोजना में उन्होंने अग्नि और पृथ्वी जैसी मिसाइलो का सफल परीक्षण किया।

वर्ष 1992 जुलाई से ले कर दिसंबर 1999 तक Dr.A.P.J Abdul Kalam जी प्रधानमंत्री के वैज्ञानिक सलाहकार और भारतीय रक्षा अनुसंधान एवं विकास संसथान ( DRDO ) के सचिव थे। भारत ने अपना दूसरा परमाणु परिक्षण इसी दौरान किया था। इस सफल परिक्षण ने उन्हें देश का सबसे बड़ा परमाणु वैज्ञानिक बना दिया।


सपने  वो  नहीं  जो आप  सोते  समय देखते  है , बल्कि सपने वह  है  जो आपको  सोने  नहीं  देते “

                                                                                   Dr.A.P.J Abdul Kalam


भारत के राष्ट्रपति बनने का सफर –

Dr.A.P.J Abdul Kalam Biography in Hindi

Dr.A.P.J Abdul Kalam जी के रक्षा वैज्ञानिक के तौर पर उनकी उपलब्धियो एवं प्रसिद्धि को देखते हुए N.D.A की गठबंधन सरकार ने उन्हें वर्ष 2000 में राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाया। उन्होंने अपने प्रतिदवंदी लक्ष्मी सहगल को पराजित किया और 18 जुलाई 2002, को Dr.A.P.J Abdul Kalam जी ने  90 % बहुमत द्वारा भारत के 11वें राष्ट्रपति के रूप में शपत लिया। वे भारत के सर्वोच्च राष्ट्रपतिपद पर विराजमान रहे।  जीवन में सुख सुविधा  की कमी के बावजूद भी वे कैसे इतने बड़े परमाणु वैज्ञानिक और राष्ट्रपति बने। यह बात हम सभी के लिए प्रेणादायक है। आज के बहुत से युवा Dr.A.P.J Abdul Kalam को अपना आदर्श मानते है। उन्होंने छोटे से गांव में एक माध्य्म-वर्ग के परिवार में जन्म लिया और इतनी बड़ी उंचाईओ तक पहुंचे। कैसे वे अपनी लगन , कड़ी  मेहनत ,और असफलताओं को झेलते हुए आगे बढ़ते गए। इस बात से हमे बहुत कुछ सीखना चाहिए।


” इंसान को कठिनाइयों की आवयश्कता होती है , क्योकि सफलता  का  आनंद  उठाने  के लिए  ये  जरुरी है “

                                          – Dr.A.P.J Abdul Kalam


पुरस्कार और सम्मान –

Dr.A.P.J Abdul Kalam जी को देश के लिए किये गए कार्यो के लिए अनेको पुरस्कारों से सम्मानित किया गया। 

Dr.A.P.J Abdul Kalam Biography in Hindi

वर्षसम्मानसंगठन
2014Doctor of ScienceEdinburgh University, UK
2013Von Braun AwardNational Space Society
2012Doctor of Laws (Honoris Causa)Simon Fraser University
2011IEEE Honorary MembershipIEEE
2010Doctor of EngineeringUniversity of WaterLoo
2009Honorary DoctorateOakLand University
2009Hoover MedalASME Foundation, US
2009Hoover MedalASME Foundation, USA
2009International Von Karman Wings AwardCalifornia Institue of Technology
2008Doctor of Engineering (Honoris Causa)Nanyang Technological University, Singapore
2008Doctor of Science (Honoris Causa)Aligarh Muslim University, Aligarh
2007Honoary Doctorate of Science and TechnologyCarnegie Mellon University
2007King Charles II MedalRoyal Society, UK
2007Honorary Doctorate of ScienceUniversity of Wolverhampton, UK
2000Ramanujan AwardAlwars Research Center, Chennai
1998Veer Savarkar AwardGoverment of India
1997Indira Gandhi Award for National IntergrationIndian National Congress
1997Bharat RatnaGoverment of India
1995Honorary FellowNational Academy of Medical Sciences,
1994Distinguished FellowInstitue of Directors , India
1990Padma VibhushanGoverment of India
2007Padma BhushanGoverment of India

 

Dr.A.P.J Abdul Kalam की मृत्यु –

27 जुलाई 2015 को Dr.A.P.J Abdul Kalam शिलोंग गए थे। जहाँ IIM शिलोंग में एक फंक्शन में बच्चो को लेक्चर देने के दौरान दिल का दौरा पड़ने से उनकी मृत्यु हो गयी। और दुनिया को अलविदा कह दिया।

 

” मिसाइल मैन ” Dr.A.P.J Abdul Kalam जी अपने सरल और साधरण व्यहवार से भी सभी का दिल जीता। उन्हें बच्चो से बहुत स्नेह था। वे हमेशा देश के युवाओ को अच्छी सीख देते रहे। मैं भी Dr.A.P.J Abdul Kalam जी को अपना आदर्श मानती हूँ। उनसे बहुत कुछ सिखने को मिला। जब आप भी इनके जीवन का गहन अध्ययन करेंगे तो जानेंगे की कैसे कड़ी मेहनत और लगन से उन्होने इतनी बड़ी सफलता हासिल की। तो ये थी Dr.A.P.J Abdul Kalam Biography in Hindi .


“युवाओ  को  मेरा  संदेश  है  की  अलग  तरीके से  सोचे , कुछ  नया  करने  का  प्रयत्न  करे , अपना  रास्ता  खुद  बनाये , असंभव  को हासिल  करे “

 – Dr.A.P.J Abdul Kalam


Dear reader’s  , अगर आपको मेरी ये पोस्ट Dr.A.P.J Abdul Kalam Biography in Hindi अच्छी लगी तो हमे comment के माध्यम से बताये और अपने दोस्तों को शेयर करना न भूले।  धन्यवाद ..!!

 

 

4 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here