Albert Einstein Biography in Hindi | महान वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन का जीवन परिचय

Albert Einstein Biography in Hindi | महान वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन का जीवन परिचय :  

नमस्कार दोस्तों मेरी आज की पोस्ट Albert Einstein Biography in Hindi , महान वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन का जीवन परिचय में आपका स्वागत है। इस पोस्ट को मैंने इस प्रकार तैयार किया है की आपको पढ़ने में आसानी हो और महत्वपूर्ण बिंदु आसानी से cover हो सके , तो चलिए बढ़ते है Albert Einstein की प्रेरणादायक जीवनी की ओर , मैं आशा करती हूँ इस पोस्ट से आपको जरूर प्रेरणा मिलेगी।


Albert Einstein Biography in Hindi |महान वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन की प्रेरणादायक जीवनी

अल्बर्ट आइंस्टीन जर्मन में जन्मे गणितज्ञ और भौतिक वैज्ञानिक थे। उन्होंने सापेक्षता के विशेष एवं सामान्य सिद्धांतो और द्रव्यमान ऊर्जा समीकरण E = mc 2 (square) विकसित किया। उन्हें 1921 में खास कर , प्रकाश – विधुत प्रभाव ( Photoelectric effect ) की खोज के लिए नोबल पुरस्कार प्रदान किया गया।

उनके काम का भी बड़ा प्रभाव परमाणु ऊर्जा (atomic energy ) के विकास पर पड़ा। अपने बाद के कुछ वर्षो में अल्बर्ट आइंस्टीन ने एकीकृत क्षेत्र सिद्धांत (unified field theory ) पर ध्यान केंद्रित किया। अल्बर्ट आइंस्टीन 20 वीं शताब्दी के सबसे प्रभावशाली वैज्ञानिक माने जाते है। “Albert Einstein Biography “


अल्बर्ट आइंस्टीन का जीवन परिचय ( Albert Einstein Biography in Hindi )-

Albert Einstein Biography in Hindi
अल्बर्ट आइंस्टीन , भौतिक वैज्ञानिक (1879 – 1955 )

विषय  जानकारिया 
जन्म :    14 मार्च , 1879
मृत्यु:    18 अप्रैल, 1955
जन्म स्थान: उल्म, जर्मनी
निवास : जर्मनी, इटली ,स्विट्ज़रलैंड, ऑस्ट्रिया,बेल्जियम , संयुक्त राज्य
जातियता: यहूदी
पिता : हेर्मन्न आइंस्टीन
माता: पौलिन कोच
पत्नी : मिलेवा मरिक(पहली पत्नी)1903-1919
एल्सा आइंस्टीन(दूसरी पत्नी)1919-1936
शिक्षा :  स्विस फ़ेडरल पॉलिटेक्निक (1896 – 1900; B.A , 1900 )
ज्यूरिख विश्वविद्यालय (PhD, 1905)
क्षेत्र : भौतिकी
पुरस्कार : बरनार्ड मेडल (1920)
भौतिकी का नोबेल पुरस्कार (1921)
मट्टुक्ती मेडल (Matteucci Medal, 1921 )
रॉयल सोसाइटी के फेलो (Fellow of the royal society , 1921 )
कोपले मैडल (1925)
रॉयल एस्ट्रोनॉमिकल सोसाइटी का स्वर्ण पदक (Gold Medal of the Royal Astronomical Society , 1926)
मैक्स प्लैंक मैडल (Max Planck Medal, 1929)
शताब्दी के टाइम पर्सन (Time Person of the Century, 1999)

अल्बर्ट आइंस्टीन: अविष्कार और खोजे ( Albert Einstein: Inventions and Discoveries )-

****Albert Einstein Biography in Hindi****

एक भौतिक वैज्ञानिक होने के रूप में अल्बर्ट आइंस्टीन ने कई खोजे की थी। लेकिन वे सापेक्षता के सिद्धांत (theory of relativity ) और समीकरण E = mc 2 के लिए सबसे अधिक प्रसिद्द हुए। उनके कुछ अविष्कार इस प्रकार है।

1 ) E = mc 2 (square) – 

अल्बर्ट आइंस्टीन ने द्रव्यमान और ऊर्जा के बीच एक समीकरण प्रामणित किया। जिसे आज नुक्लेअर ऊर्जा कहते है।

2 ) प्रकाश का क्वांटम सिद्धांत (Quantum Theory of Light)- 

प्रकाश का क्वांटम सिद्धांत हमे बताता है कि प्रकाश और पदार्थ में छोटे कण होते है। जिसमे तरंग जैसे गुण होते है। जो उनके साथ जुड़े होते है। प्रकाश कणो से बना होता है जिसे फोटॉन कहते है, और पदार्थ इलेक्ट्रॉनस , प्रोटॉन , न्यूट्रॉन नामक कणो से बना होता है।

3 ) ब्रोनियन मूवमेंट (Brownian movement )-

1905 में अल्बर्ट आइंस्टीन के नेतृत्व में ब्रोनियन गति (Brownian movement or motion ) के अपने मात्रात्मक सिद्धांत का उत्पादन किया , उनके काम ने ब्रोनियन गति सिद्धांत को स्थापित किया और परमाणुओं एवं अणुओ के अस्तित्व के बारे में संदेह को समाप्त कर दिया। , ” Albert Einstein Biography “

4 ) विशेष सापेक्षता सिद्धांत (Special Theory of Relativity ) –

अल्बर्ट आइंस्टीन ने अपने विशेष सापेक्षता सिद्धांत (Special Theory of Relativity ) में यह निर्धारित किया कि भौतिकी के नियम सभी गैर – त्वरक पर्यवेक्षकों ( non- accelerating observers ) के लिए सामान है., और उन्होंने यह समझाया की एक निर्वात के भीतर प्रकाश की गति वही गति होती है। जिस गति से एक पर्यवेक्षक (observer) यात्रा करता है।

यह भी पढ़े : Dr.A.P.J Abdul Kalam Biography in Hindi

5 ) साधारण सापेक्षतावाद का सिद्धांत (General Theory of Relativity ) –

अल्बर्ट आइंस्टीन का साधारण सापेक्षतावाद का सिद्धांत (General Theory of Relativity )  20 वीं शताब्दी की भौतिक उपलब्धियों में से एक है। यह सिद्धांत हमे बताता है कि जिसे हम गुत्वाकर्षण बल कहते है। वह अंतरिक्ष और समय की वक्रता से उत्पन्न होता है।

6 )आइंस्टीन रेफ्रिजरेटर (Einstein Refrigerator) –

अल्बर्ट आइंस्टीन का रेफ्रिजरेटर एक अवशोषण रेफ्रिजरेटर (Absorption Refrigerator ) है। यह केवल दबाव (Constant Pressure ) में काम करता है..इसे संचालित करने के लिए केवल एक गर्मी स्रोत की आवश्यकता होती है।

7 ) मैनहट्टन परियोजना ( Manhattan Project ) –

अल्बर्ट आइंस्टीन का मैनहट्टन परियोजना ( Manhattan Project) एक अनुसंधान है। जो की united States of America का समर्थन करता है। द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान जब अमेरिका ने पहला परमाणु बम बनाने की जो परियोजना बनाई उसे
मैनहट्टन परियोजना ( Manhattan Project) नाम दिया।

8 ) आकाश नीला है (Sky is Blue ) –

आकाश नीला क्यों है , इसकी वास्तव में गहन व्याख्या कठिन है , अल्बर्ट आइंस्टीन ने लिखा सापेक्षता का उपयोग पूरी तरह से यह समझाने के लिए किया जाना था ” आकाश नीला क्यों है “.

अल्बर्ट आइंस्टीन: परिवार (Albert Einstein : Family )-

****Albert Einstein Biography in Hindi****

अल्बर्ट आइंस्टीन का जन्म जर्मनी के उल्म में एक यहूदी परिवार में हुआ था। उनके पिता का नाम हेर्मन्न आइंस्टीन था। और उनकी माता का नाम पौलिन कोच था। आइंस्टीन के पिता हेर्मन्न आइंस्टीन एक सेल्समैन और इंजीनियर थे। उन्होंने अपने भाई के साथ मिल कर एक म्युनिक – आधारित (Munich – based) कंपनी Elektrotechnische Fabric J.Einstein & Cie की स्थापना की , जिसने बिजली के उपकरणों का निर्माण किया। आइंस्टीन की एक छोटी बहन भी थी। जिनका नाम माजा आइंस्टीन (Maja Einstein ) था , जो उनके दो साल बाद पैदा हुई थी।

अल्बर्ट आइंस्टीन: वैवाहिक जीवन –

****Albert Einstein Biography in Hindi****

अल्बर्ट आइंस्टीन ने 6 जनवरी , 1903 में मिलेवा मरिक से शादी की , ज्यूरिख विश्वविद्यालय में भाग लेने ले दौरान उनकी मुलाकात एक सर्बियाई भौतिकी छात्रा मिलेवा मरिक से हुई। लेकिन उनके माता – पिता उनकी जातिय पृष्ठभूमि के कारण उनके रिश्ते सख्त खिलाफ़ थे।

बहरहाल , अल्बर्ट आइंस्टीन ने उनके साथ अपना रिश्ता जारी रखा। दोनों ने पत्रों के माध्यम से एक पत्राचार विकसित किया। जिसमे उन्होंने अपने कई वैज्ञानिक विचारो को व्यक्त किया था। आइंस्टीन के पिता का निधन 1902 में हुआ और इसके बाद अल्बर्ट आइंस्टीन और मिलेवा मरिक ने शादी कर ली। “Albert Einstein Biography in Hindi “

और उसी साल इस दंपति की बेटी लिसेरल (Lieserl) का जन्म हुआ। और इस दंपति के दो बेटे भी हुए हैंस अल्बर्ट आइंस्टीन (Hans Albert Einstein) जो एक जाने माने hydraulic इंजीनियर बने। और दूसरे बेटे Eduard ” Tete ” Einstein ( जिन्हे एक युवा के रूप में सिज़ोफ्रेनिया ” schizophrenia ” का पता लगा था )..लेकिन आगे चल कर इन दोनों के बीच तलाक हो गया , और फिर आइंस्टीन ने दूसरी शादी की एल्सा आइंस्टीन 1919 में।

अल्बर्ट आइंस्टीन का जन्म कब और कहा हुआ ( When and Where was Albert Einstein born )- ?

अल्बर्ट आइंस्टीन का जन्म 14 मार्च , 1879 को जर्मनी के उल्म में हुआ था। लेकिन वे जर्मनी म्युनिक शहर में बड़े हुए

अल्बर्ट आइंस्टीन की मृत्यु कब हुई ( When did Albert Einstein Die )-

अल्बर्ट आइंस्टीन का निधन 18 अप्रैल , 1955 में प्रिंसटन (Princeton) के यूनिवर्सिटी मेडिकल में 76 वर्ष की आयु में हुआ। अपने आख़री दिनों में इसरायल की 7 वीं वर्ष गांठ के सम्मान में भाषण पर काम करते हुए , आइंस्टीन को पेट की महाधमनी धमनीविस्फार का सामना करना पड़ा। उन्हें इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया। लेकिन सर्जरी के लिए उन्होंने यह कहते हुए मना कर दिया की ” मैंने अपना जीवन जिया और अपने भाग्य को स्वीकार करने के लिए संतुष्ट हूँ ” .

और उन्होंने कहा ” जब मैं चाहता हूँ , मैं जाना चाहता हूँ ,..कृत्रिम रूप से जीवन को लम्बा करना बेस्वाद है। ..मैंने अपना हिस्सा पूरा किया। यह जाने का समय है। मैं इसे सुरुचिपूर्ण ढंग से करूँगा। “

ये भी पढ़े : मुंशी प्रेमचंद जी का जीवन परिचय

अल्बर्ट आइंस्टीन का दिमाग ( Albert Einstein Brain ) :

****Albert Einstein Biography in Hindi****

अल्बर्ट आइंस्टीन के शव परीक्षण ( Post Mortem) के दौरान थॉमस स्टोल्ट्ज़ हार्वे (Thomas Stoltz Harvey ) ने उनके मस्तिष्क को हटा दिया , कथित तौर पर उनके परिवार की अनुमति के बिना। तंत्रिका विज्ञान ( Doctors of Neuroscience) के डॉक्टरों द्वारा संरक्षण और भविष्य के अध्ययन के लिए। अपने जीवन काल में अल्बर्ट आइंस्टीन ने मस्तिष्क अध्ययन में भाग लिया था। और कहा जाता है की उन्हें आशा थी की उनके मरने के बाद शोधकर्ता भी उनके मस्तिष्क का अध्ययन करेंगे। आइंस्टीन का
मस्तिष्क अब प्रिंसटन (Princeton) के यूनिवर्सिटी मेडिकल सेंटर में स्थित है।

1999 में कनाडा के वैज्ञानिक जो की आइंस्टीन के मस्तिष्क का अध्ययन कर रहे थे। उन्होंने पाया की उनके अवर पार्श्विका लोब (inferior parietal Lobe) वह क्षेत्र स्थानिक सम्बन्धो 3D – Visualization और गणितीय ( mathematical) विचार को संसाधित करता है। सामान्य बुद्धि वाले लोगो की तुलना में 15 % व्यापक ( wider) था। The NewYork Times के अनुसार , शोधकर्ताओ का मानना यह है की यह समझाने में मदद कर सकता है की अल्बर्ट आइंस्टीन इतने बुद्धिमान क्यों थे।

अल्बर्ट आइंस्टीन : शिक्षा ( Albert Einstein : Education ) –

****Albert Einstein Biography in Hindi****

अल्बर्ट आइंस्टीन जर्मनी के म्युनिक शहर में बड़े हुए और उनकी शिक्षा भी यही से आरम्भ हुई। वे अपने बचपन में पढाई में बहुत कमजोर भी थे और इसी कारण उन्हें मानसिक रूप से विकलांग में कहा जाने लगा। वे तो ठीक से बोल भी नहीं पाते थे। आइंस्टीन के 5 वें जन्मदिन में उनके पिता ने उन्हें एक मैग्नेटिक कंपास गिफ्ट में दिया। जिसमे कंपास की सुई हर हाल में उत्तर दिशा (north direction) में होती। और यही से उनके मन में विज्ञान को जानने की जिज्ञासा उत्पन्न हुई। और फिर उनका interest विज्ञान के लिए बढ़ता गया। गणित में उनका interest उनके चाचा ने जगाया जो की एक इंजीनियर थे। ” Albert Einstein Biography in Hindi “.

जब आइंस्टीन 15 वर्ष के हुए तो उनके पिता का काम बंद हो गया। और काम की तलाश में वे इटली में बस गए। और फिर 16 वर्ष की उम्र में आइंस्टीन के पिता ने उन्हें पढ़ने के लिए स्विट्ज़रलैंड भेज दिया। और कॉलेज के entrance exam में वे गणित और विज्ञान को छोड़ कर और सभी विषयों में फ़ैल हो गए थे। लेकिन उनके गणित और विज्ञान के marks दूसरे सभी बच्चो से ज्यादा थे। इसी कारण उन्हें दाख़िला मिल गया।

अल्बर्ट आइंस्टीन को 23 वर्ष की उम्र में कॉलेज के बाद स्विट्ज़रलैंड की राजधानी बर्न में रहते हुए उन्होंने अपनी Phd पूरी की।
 स्विस फ़ेडरल पॉलिटेक्निक (1896 – 1900; B.A , 1900 ) 
ज्यूरिख विश्वविद्यालय (PhD, 1905)

अल्बर्ट आइंस्टीन : नोबेल पुरस्कार ( Albert Einstein : Nobel Prize )-

1921 में आइंस्टीन को प्रकाश – विधुत प्रभाव ( Photoelectric effect ) के लिए नोबल पुरस्कार प्रदान किया गया।

अल्बर्ट आइंस्टीन के रोचक तथ्य ( Albert Einstein Interesting facts )-

****Albert Einstein Biography in Hindi****

1 ) अल्बर्ट आइंस्टीन का जब जन्म हुआ तो डॉक्टरों ने पाया उनका सर सामान्य बच्चो से काफी बड़ा था।

2 ) वे 4 वर्ष की आयु तक ठीक से बोल भी नहीं पाते थे। उन्होने एक दिन डिनर के टेबल पर 4 वर्ष की चुप्पी तोड़ते हुआ कहा था ” सूप गर्म है ” .. 4 साल के बाद अपने बेटे के शब्द सुन कर उनके माता – पिता आश्चर्य रह गए।

3 ) अल्बर्ट आइंस्टीन को अक्सर मोज़े पहनना बिलकुल पसंद नहीं था। इसकी वजह पूछने पर आइंस्टीन ने बताया की ” बचपन में मेरे पैर के अंगूठो से मोज़े में छेद हो जाते थे , इसीलिए मोज़े पहनना ही बंद कर दिया ” .

4 ) आइंस्टीन को बड़े – बड़े विश्व विद्यालयों से प्रस्ताव आते थे। लेकिन उन्होंने प्रिंसटन के विश्वविद्यालय को उसके शांत वातावरण के कारण नहीं छोड़ा।

5 ) जब भी लोग आइंस्टीन को उसकी प्रयोगशाला के बारे पूछते तो , आइंस्टीन अपने सर की ओर इशारा कर के मुस्कुरा देते।

6 ) एक वैज्ञानिक ने आइंस्टीन से उनके उपकरण के बारे पूछा तो आइंस्टीन ने अपना fountain pen दिखाया , उनका मस्तिष्क उनकी प्रयोगशाला और pen उनका उपकरण था।

7 ) आइंस्टीन का जन्म दिन पूरी दुनिया में ” Genius Day ” के रूप में मनाया जाता है।

8 ) आइंस्टीन अपने काम को अच्छे से करने और तरो – ताज़ा रहने के लिए प्रतिदिन 10 घंटे सोया करते थे।

9 ) आइंस्टीन की याददाश्त कुछ ज्यादा अच्छी नहीं थी , उन्हें फ़ोन नंबर और तारीके आदि उतनी याद नहीं रहती थी। यह तक की उन्हें अपना फ़ोन नंबर भी याद नहीं रहता था।

10 ) आइंस्टीन का कहना था वे ऐसी चीज़ो को याद नहीं रखते जिसे आसानी से दो मिनट में खोजा जा सके।

अल्बर्ट आइंस्टीन के सुविचार ( Albert Einstein Quotes)-

****Albert Einstein Biography in Hindi****

1 ) ” हर दिन मैं खुद को सौ बार याद दिलाता हूँ कि मेरा अंदरूनी तथा बाहरी जीवन दूसरे लोगो – जीवित भी व मृत भी – के श्रम पर निर्भर है और यह भी याद दिलाता हूँ कि मुझे जितना मिला है और अब मिल रहा है , उसी अनुपात में देने के लिए मुझे मेहनत करनी चाहिए । ”

– अल्बर्ट आइंस्टीन

2 ) प्रत्येक व्यक्ति जीनियस है। लेकिन यदि आप मछली में पेड़ पर चढ़ने की योग्यता देखेंगे तो वह खुद को ज़िन्दगी भर मुर्ख समझेगी

 – अल्बर्ट आइंस्टीन

3 ) जिस व्यक्ति ने कभी गलती नहीं की , उसने कभी भी कुछ नया करने की कोशिश नहीं की।

– अल्बर्ट आइंस्टीन

4 ) कल्पना ज्ञान से ज्यादा महत्वपूर्ण है।

– अल्बर्ट आइंस्टीन

5 ) एक इंसान उस पूर्ण का एक भाग है जिसे हम ब्रह्मांड कहते है।

– अल्बर्ट आइंस्टीन

6 ) एक प्रश्न जो मुझे कभी – कभार उलझा देता है: क्या मैं पागल हूँ या बाकि लोग पागल है।


– अल्बर्ट आइंस्टीन

7 ) मेरे पास कोई स्पेशल टैलेंट नहीं है , मैं बस बहुत अधिक जिज्ञासु हूँ।

– अल्बर्ट आइंस्टीन

8 ) केवल दुसरो के लिए जिया जीवन ही सार्थक जीवन है।

– अल्बर्ट आइंस्टीन

9 ) किसी इंसान का मूल्य इससे देखा जाना चाहिए की वो क्या दे सकता है। इससे नहीं की वो क्या ले पा रहा है।

– अल्बर्ट आइंस्टीन

10 ) एक ऐसा समय आता है जब दिमाग ज्ञान के उच्च स्तर पर पहुँच जाता है। लेकिन कभी साबित नहीं कर पता की वे वहाँ कैसे पहुँचा।

– अल्बर्ट आइंस्टीन

दोस्तों कैसी लगी आपको यह पोस्ट Albert Einstein Biography in Hindi , महान वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन का जीवन परिचय , हमे कमेंट के माध्यम से जरूर बताये , और अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करे , ” आपका धन्यावद मेरी पोस्ट पढ़ने एवं शेयर करने के लिए “, धन्यवाद , धन्यवाद , धन्यवाद !

Albert Einstein Biography in Hindi , Albert Einstein Biography , Albert Einstein quotes , Albert Einstein Facts , Albert Einstein education , Albert Einstein Biography

Source : विकिपीडिया

If u like this Post Please Share..

3 thoughts on “Albert Einstein Biography in Hindi | महान वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन का जीवन परिचय”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *