खुद पर विश्वास की कहानी- Best motivational story in hindi

खुद पर विश्वास – Best motivational story in hindi :

दोस्तों आज हम खुद पर विश्वास – Best motivational story in hindi के जरिये जानेंगे। अगर खुद पर विश्वास हो तो कुछ भी पाना मुश्किल नहीं। विफलता तो हम सभी के जीवन में आती है। चाहे वह कोई भी हो। कोई विफलता का रोना रोता रहता है , तो कोई खुद पर विश्वास कर के मेंहनत कर के सफलता पा ही लेता है।  तो चलिए इस कहानी के माध्यम से हम जानते है , खुद पर विश्वास  कर के हम अपनी मंजिल कैसे पा सकते है।

खुद पर विश्वास – Best motivational story in hindi-

खुद पर विश्वास की कहानी- Best motivational story in hindi

ये कहानी है एक बच्चे की जिसका नाम रमेश  था। वह बहुत बड़ा आदमी बनना चाहता था, दुनिया में अपना नाम बनना चाहता था।  उम्र छोटी थी लेकिन सपने बहुत बड़े, जैसे-जैसे वह बड़ा होने लगा , उसके सपने भी बड़े होने लगे।  रमेश हमेशा से बहुत मेहनती था। 

अपनी पढाई पूरी करने के बाद रमेश ने एक कंपनी शुरू की और कंपनी अच्छा लाभ (profit) कमाने लगी , कुछ समय बाद और भी अच्छा लाभ कमाने लगी। उसे बहुत सफलता मिली। ऐसा करते करते वह लड़का रमेश उस क्षेत्र (field) का सबसे सफल आदमी बन गया। जैसा की उसके सपने थे। सफल होना दुनिया में अपना नाम बनाना ,लेकिन कहते है ना, जहाँ सफलता है वहाँ विफलता भी है। 

कुछ समय बाद रमेश के उल्टे दिन शुरू हो गए। उसकी कंपनी धीरे-धीरे घाटे में जाने लगी। घाटा इतना बढ़ गया की उस पर लाखो की उधारी आ गयी। वह बहुत परेशान और निराश रहने लगा। उधार देने वाले लोग उसे परेशान करने लगे। अगर तुमने पैसे नहीं दिए तुम्हे मार देंगे। एक दिन रमेश ने इन सब चीज़ो से तंग आ कर सोचा, अगर मैं रहूंगा ही नहीं तो किस बात की चिंता।

अब रमेश एक गार्डन में जा कर बैठ जाता है। और खूब ज़ोर-ज़ोर से रोने लगा और कहने लगा।

” मैं क्या करू…..क्या होगा मेरा ” 

और आत्महत्या के बारे सोचने लगा , मैं कैसे मरू

अब कहानी में आता है, एक दिलचस्प  मोड़….

रमेश रो ही रहा होता है. इतने में एक बूढ़ा व्यक्ति उसके कंधे में अपना हाथ रखता है। और कहता है।

” बेटा क्या हो गया…..क्या समस्या है…मुझे बताओ “

रमेश कहने लगा, “मुझसे दूर हट जाओ, मेरे मामले में दख़ल मत दो “

उस बूढ़े व्यक्ति ने फिर पूछा, ” बेटा …क्या समस्या है…मुझे बताओ “

रमेश ने गुस्से से कहा  “मेरी समस्या है….तुम्हे क्या ” .

फिर बूढ़े व्यक्ति ने कहा हो सकता है, तुम्हे तुम्हारी समस्या का समाधान दे दूँ। रमेश ने कहा “मेरे ऊपर 10 लाख का उधार है… चूका  पाओगे ” , अरे जाओ  जाओ….

उस बूढ़े व्यक्ति ने अपनी कोट की जेब से चेकबुक निकाली, उसमे 10 लाख की रकम भरी, दस्तख़त किया और रमेश को दिया। रमेश आश्चर्य में पड़ गया। मैं तो इसे जानता भी नहीं, फिर ये मुझे इतने पैसे क्यों दे रहा है। रमेश ने मना कर दिया, मैं आपसे ये पैसे नहीं ले सकता।

उस बूढ़े व्यक्ति ने कहा नहीं…नहीं तुम ये चेक ले लो…रमेश ने कहा मैं तो आपको जानता भी नहीं।  फिर उस बूढ़े व्यक्ति ने अपना नाम बताया। वह नाम उस क्षेत्र के सबसे प्रसिद्ध व्यक्ति का था।  सेठ दीन दयाल।

जैसे ही लड़के ने वह नाम सुना। वह कहने लगा सेठ जी आप….आप मुझे इतना पैसा क्यों दे रहे है…उस बूढ़े व्यक्ति ने कहा “रख लो बेटा, अपना कारोबार फिर से शुरू करो….जब तुम्हे मुनाफा होने लगे तब पैसे लौटा देना “

रमेश ने कहा “ठीक है… सेठ जी एक साल बाद ”  उस बूढ़े व्यक्ति ने कहा “ठीक है बेटा इसी जगह एक साल बाद , मैं रोज आता हूँ इस गार्डन में ”  

रमेश ने उस बूढ़े व्यक्ति को धन्यवाद् कहा…और कहा मेरी सारी चिंता खत्म अब…मैं सबका उधार चूका सकता हूँ, और अपना कारोबार फिर से शुरू कर सकता हूँ।

खुद पर विश्वास की कहानी- Best motivational story in hindi

जब रमेश घर पहुँचा उसने चेक की ओर देखा। और सोचने लगा एक अनजान व्यक्ति जो मुझे जानता तक नहीं उसने मुझ पर भरोसा किया और इतना बड़ा चेक दे दिया। एक अनजान व्यक्ति मुझ पर विश्वास कर रहा है, लेकिन मैं खुद पर यकीन नहीं कर रहा था। फिर उसने निर्णय लिया मैं इस चेक का इस्तेमाल नहीं करूँगा। अब मैं खुद पर विश्वास करूंगा,  फिर से मेहनत करूंगा और पैसे कमाऊँगा। उसने किसी तरह कर्जदारों से एक साल की मोहलत मांगी और कहा मैं आपका सारा पैसा चूका दूंगा।

उसने उस चेक को एक संदूक में रख दिया। और फिर से मेहनत करने लगा….देखते ही देखते उसकी कंपनी फिर से खड़ी हो गयी। उसके सारे कार्यकर्ता भी वापस आ गए। उसने लोगो का कर्ज भी चुका दिया। और एक साल बीत गया।

एक साल बाद रमेश बहुत उत्सुक था उस बूढ़े व्यक्ति से मिलने के लिए…रमेश चेक ले कर उसी गार्डन में जा कर बैठ गया. और उस बूढ़े व्यक्ति  इंतज़ार करने लगा। उसकी उत्सुकता बढ़ती जा रही थी क्योकि वह उनसे बताना चाहता था की उसने चेक का इस्तेमाल भी नहीं किया। रमेश को इंतज़ार करते करते काफी समय बीत गया।

लेकिन थोड़ी देर बाद पीछे से एक एम्बुलेंस(ambulance) आयी और उस बूढ़े व्यक्ति को एम्बुलेंस(ambulance) में डालने लगी.

रमेश ने चिल्लाया ये क्या कर रहे हो…ये इस शहर के सबसे बड़े सेठ है, सबसे धनी व्यक्ति है। इस बात पर कम्पाउंडर ने कहा ये कोई सेठ नहीं है…ये तो पागल खाने से भागा एक पागल है… कम्पाउंडर ने कहा क्या इसने तुम्हे भी कोई चेक दिया, जिसमे कुछ रकम भरी।

रमेश ने कहा “हाँ ”  फिर उसने कहा यह कोई सेठ है नहीं है , यह सबको ऐसे ही चेक बाँटता रहता है।

यह सुन कर रमेश को बहुत बड़ा झटका लगा. यदि उस दिन वह खुद पर विश्वास ना कर के उस चेक पर विश्वास करता तो उसका क्या होता उस दिन। रमेश ने खुद पर विश्वास किया , और उस मुकाम पर पहुँच गया जो वो चाहता था।

विश्वास खुदा पर है।  तो जो लिखा है नसीब में वही पाओगे 

विश्वास खुद पर है। तो खुदा भी वही लिखेगा जो आप चाहोगे 

दोस्तों अगर आपको ये कहानी खुद पर विश्वास – Best motivational story in hindi कैसी लगी हमे कमेंट के माध्यम से बताये। और शेयर भी करे Facebook , Twitter, Google + , Whatsapp आदि पे। और ऐसी ही Best motivational story in hindi में पढ़ने के लिए हमारे blog को subscribe करे। 

 

ये भी पढ़े- जिन्दगी बदलने वाले कुछ प्रेरक विचार 

Hello I am Sarabjeet Kaur from jamshedpur and i am founder of talkshauk.com. I have completed Diploma in Computer Engineering.

If u like this Post Please Share..

6 thoughts on “खुद पर विश्वास की कहानी- Best motivational story in hindi”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *