Time Management in Hindi – समय को सही से मैनेज कैसे करे

Time Management in Hindi – समय को सही से मैनेज कैसे करे : 

मैं सरबजीत कौर आपका स्वागत करती हूँ अपनी इस पोस्ट Time Management in Hindi में , क्या आपने कभी सोचा है की आजकल हमे समय की इतनी कमी क्यों महसूस होती है ? समय पर काम पूरा ना होने पर हम आगबबूला हो जाते है , चिढ़ जाते है , तनाव में आ जाते है…लगभग हर पल हम जल्दबाजी में रहते है। जिससे हमारा ब्लड प्रेशर भी बढ़ जाता है , लोगो से हमारे रिश्ते भी खराब होते है..कई बार हड़बड़ी में दुर्घटनाये भी होती है।

हमारे पास समय की सबसे ज्यादा कमी होती है , परन्तु इसी का हम सबसे ज्यादा दुरूपयोग करते है..!!

Time Management in Hindi –

Time Management in Hindi

भगवान ने किसी को ज्यादा सुंदरता दी तो किसी को कम , किसी को दौलत ज्यादा दी तो किसी को कम..लेकिन भगवान ने समय (Time) सबको बराबर दिया , एक दिन में 24 घंटे जिसे आप किसी बैंक में जमा नहीं कर सकते, समय (Time) आप के हाथ में नहीं होता , यह तो घड़ी की सुई के साथ लगातार आपके हाथ से निकलता रहता है। आपके हाथ में तो बस इतना है आप उस समय का इस्तेमाल कैसे करते है ,  समय (Time) का सदुपयोग करते है या दुरूपयोग। आज हम Time Management in Hindi पोस्ट में कुछ tips जानेंगे जिससे हम समय का सही उपयोग कर सकते है।

Time Management Tips in Hindi –

1 ) समय की लॉग बुक (Record Book) रखे : 

जैसे आप अपने पैसो का खर्चो का बजट बनाते है ..उसी प्रकार अपने समय का भी बजट तैयार करे…जैसे पैसो के बजट में आपको हिसाब होता है कहा कितना पैसा खर्च हो रहा है…समय के मामले में भी यही नीति अपनाये। एक डायरी ले और एक सप्ताह का रिकॉर्ड रखे, आप किस काम में कितना Time खर्च कर रहे है…

कुछ इस तरह लिखे – Example

 

समय कार्य
सुबह 6 – 6 :30 उठना,  fresh होना , चाय बनाना
सुबह 6 :30 – 7   बातचीत करना , अख़बार पढ़ना
सुबह 7 – 7 :30   टीवी , न्यूज़ देखना
सुबह  7 :30  – 8  नहाना और पूजा पाठ करना
सुबह  8 – 9   नाश्ता और तैयार होना
सुबह 9 – शाम 6 ऑफिस
शाम 7 – 9 बाजार जाना , dinner बनाना ,दोस्तों के साथ बहार जाना आदि
रात 9 -10  dinner करना , टीवी देखना
रात 10 – सुबह 6  सोना
दिन भर में फ़ोन पर बातचीत एवं चैटिंग  45 मिनट

आप चाहे तो log book बनाने का काम कंप्यूटर में excel sheet पर भी कर सकते है। इसमें एक सप्ताह तक अपने हर घंटे का संक्षिप्त वर्णन करे. जिससे आपकी आंखे खुल जाएँगी। इसमें आपको यह पता चलेगा की आपको किन गतिविधियों या कामो में समय लग रहा है। आपने इंटरनेट पर कितना time दिया यह भी घड़ी देख कर दर्ज कर ले।

फिर एक सप्ताह के बाद log book का विश्लेषण कुछ इस तरह करे…आपके द्वारा किये गए कौन से काम महत्वपूर्ण है…और कौन से महत्वहीन। कहा से समय निकला जा सकता है और किन कामो को छोड़ा जा सकता है। अब चूँकि समय का सर्वश्रेष्ठ उपयोग करना चाहते है , इसके लिए आपको कीमत तो चुकानी ही होगी।

  जो लोग समय का सबसे बुरा उपयोग करते है , वही सबसे पहले इसकी कमी का रोना रोते है।

                                                                                               – जीन डे ला ब्रूयर 

2 ) सबसे important काम सबसे पहले करे : 

अकसर हमारी दिनचर्या कुछ ऐसी होती है , जो काम हमे पहले सामने नज़र आता है हम उसी को करने लग जाते है..और इसी वजह से हमारा समय इन छोटे – छोटे कामो को निबटाने में निकल जाता है….हमारे महत्वपूर्ण काम सिर्फ इसलिए नहीं हो पाते। महत्वकांक्षी व्यक्ति को इस बारे में सतर्क रहना चाहिए , क्योकि अपने लक्ष्य को हासिल करने एवं सफलता पाने के लिए यह है कि important काम पहले किये जाये। हमेशा याद रखे सफलता महत्वहीन कामो से नहीं बल्कि महत्वपूर्ण कामो से मिलती है। इसीलिए यह स्पष्ट रखे important काम पहले  निबटाए महत्वहीन कामो में अपना समय waste ना करे।

क्या आप अपनी ज़िन्दगी से प्रेम करते है ? तो फिर समय बर्बाद ना करे , क्योकि ज़िन्दगी इसी से बनी है। 

                                                                                             -बेंजामिन फ्रैंकलिन 

3 ) Parkinson’s Law (पार्किन्सन नियम) का लाभ ले :

समय के सही उपयोग के लिए Parkinson’s Law को जानना बहुत आवश्यक है। Parkinson’s Law कहता है…” काम उतना ही फैल जाता है , जितना इसके लिए समय होता है ” .

इसका अर्थ है..हमारे पास जितना काम होता है ,हमारा समय भी उसी के हिसाब से फैलता और सिकुड़ता है। यानि अगर हम कम समय में ज्यादा काम करने की योजना बनाएंगे तो समय फैल जायेगा, और हमारे काम उसी तय की हुई अवधि में पुरे हो जायेंगे।

और वही दूसरी ओर , अगर हम उतने ही समय में कम काम करने की योजना बनाएंगे , तो समय सिकुड़ जाएगा और उतनी ही अवधि में हम कम काम कर पाएंगे।

इसे एक उदाहरण से समझते है – जब हम कभी लम्बी छुट्टियों की योजना बनाते है तो , उससे कुछ दिन पहले ही हम घर और ऑफिस के काम को निबटाने में ताबड़तोड़ तरीके से जुट जाते है। एक सप्ताह में हम सामान्य से दोगुना , तीनगुना काम कर लेते है…हम फटाफट काम करते है और कम time में ज्यादा काम complete कर लेते है। क्योकि हमे निश्चित समयसीमा में काम निबटा कर छुट्टियां मानाने जाना होता है।

हमारे पास time कम होता है और काम ज्यादा फिर भी हम उसे समय पर पूरा कर लेते है। क्योकि हमारे सामने स्पष्ट लक्ष्य होता है। और यह Parkinson’s Law वजह से ही संभव हो पाता है।

जो व्यक्ति एक घंटा भी बर्बाद करने की हिमाकत करता है , वह जीवन के मूल्य को नहीं समझ पाया है। 

                                                                                                        -चार्ल्स डार्विन 

4 ) अपने प्राइम टाइम (Prime Time ) में काम करे :

Prime Time क्या है – टेलीविज़न पर प्राइम टाइम में – यानि रात 8 बजे से 10 बजे तक विज्ञापन की कीमत सबसे ज्यादा होती है। विज्ञापन उतने ही time का रहता है लेकिन उसकी कीमत बढ़ जाती है…विज्ञापन की कीमत बढ़ने का कारण सिर्फ और सिर्फ उसका prime time में प्रसारित होना है। जिसमे इसे ज्यादा दर्शको द्वारा देखा जाता है। 

 टेलीविज़न के prime time से हम यह सीख सकते है। हमारे – आपके लिए भी दिन के 24 घण्टे एक से नहीं होते। दिन के किसी खास time आपकी ऊर्जा , विचार -शक्ति , उत्साह और कार्यक्षमता बाकि Time की तुलना अधिक होती है। यही आपका prime time है। 

mostly लोगो के लिए सुबह का समय Prime Time होता है। जब वे बड़े – बड़े आसानी से चुटकियो में कर लेते है, परन्तु ध्यान रहे सभी का  Prime Time same नहीं होता , सभी का Prime Time अलग – अलग होता है. कइयों का रात का हो सकता है तो किसी का दोपहर का। आपका Prime Time चाहे जो भी हो सबसे important बात है इसे पहचानना।

समय बचाने के लिए काम का सही समय चुने। 

                                                                                       -फ्रांसिस बेकन 

5 ) आलास से बचे :

समय बचाने के लिए आपको आलस से बचना चाहिए। जब भी कोई मुश्किल काम सामने आता है , हम आलास करने लगते है और उसे टालने लगते है। लेकिन टाल मटोल करने के अलावा आलास के और भी कारण है। इसका एक अहम कारण है जिसे हम नज़रअंदाज़ कर देते है : जरूरत से ज्यादा भोजन करना। 

जब आप आवश्यकता से ज्यादा भोजन कर लेते है या ज्यादा तला – भुना भोजन करते है तो आपकी ऊर्जा में कमी आ जाती है..और आपकी एकाग्रता में कमी आती है। 

read : एकाग्रता बढ़ाने के जबरदस्त तरीके

आलस की वजह से आप गलतिया भी ज्यादा करते है ,ताल – मटोल या काम जल्दी निबटाने के चक्कर में काम की गुणवत्ता एवं परिणाम पर बुरा असर पड़ता है।

आलस वह मृत सागर है , जो सभी सदगुणो को लील लेता है। 

                                                                                           – बेंजामिन फ्रैंकलिन 

6 ) अगले दिन की योजना बनाये :

आप अगले दिन की योजना एक दिन पहले रात में बना ले। एक दिन पहले योजना बनाने से यह लाभ होता है कि आपको अवचेतन मन की शक्ति का लाभ मिल जाता है…यह  साबित हो चूका है हमारे मस्तिष्क के दो हिस्से है : चेतन मन  और  अवचेतन मन.

read : अवचेतन मन की पूरी जानकारी यह कैसे काम करता है 

इस tip से हमे नए – नए ideas मिलेंगे काम को पूरा करने के।

मस्तिष्क जो सोच सकता है और जिसमे यकींन कर सकता है , उसे यह हासिल भी कर सकता है।

                                                                                                     – नेपोलियन हिल 

7 ) समय की बर्बादी का गुत्वाकर्षण नियम : 

आप कोई चीज़ हवा में फेके या आप हवा में छलांग लगाए तो क्या होगा ? पृथ्वी की गुत्वाकर्षण शक्ति के कारण आप नीचे आ जायेंगे। यही समय के साथ भी होता है..जब भी आप कोई नया काम शुरू करते है, वैसे ही बाधाओं की गुत्वाकर्षण शक्ति Active हो जाती है। और आपको नीचे धकेलने लगती है। दूसरे लोग काम में विघ्न डालते है। 

जैसे कोई आप को दूसरे काम को कहेगा , कोई आपसे मिलने आ जायेगा , किसी का फ़ोन आ जायेगा। यह और कुछ नहीं , बाधाओं का गुत्वाकर्षण है ,  जो आपको नीचे खींच रहा है

याद रखे इस दुनिया में दुसरो की तरक्की देख कर जलने की ,काम के बीच में तंग अड़ाने की परम्परा है…आपका ऊपर उठना , आपकी तरक्की होना शायद कुछ लोगो को पसंद नहीं आएगा। और वे अपनी ओर से बाधा डालने की पूरी -पूरी कोशिश करेंगे। इसका सरल उपाय यह है : अपना मुँह बंद रखे। किसी को यह ना बताये की आप कुछ important काम कर रहे है…लोगो को अपनी हर बात बताने की कोई जरूरत ही नहीं है। ऐसा कर के आप अपने काम को अच्छे से और समय पे पूरा कर पाएंगे। और जलने वाले , बाधा डालने वाले लोग आपका time waste भी नहीं कर पाएंगे। तो यह था आखिरी टिप्स Time Management in Hindi का। 

जिन लोगो के पास खाली समय होता है , वे हमेशा काम करने वाले लोगो का समय बर्बाद करते रहेंगे। 

                                                                                                -थॉमस सोवेल 

तो ये थे  Time Management in Hindi – समय को सही से मैनेज कैसे करे पोस्ट के कुछ टिप्स आशा करती हूँ आपको अच्छी लगी होगी। आपको इस लेख से कुछ ना कुछ मदद जरूर मिलेगी। इस Time Management in Hindi पोस्ट काफी रिसर्च और किताबों की जानकरियों द्वारा लिखा गया है। अगर यह पोस्ट Time Management in Hindi फायदेमंद लगी हो तो अपने दोस्तों साथ Facebook , twitter , whatsapp आदि पे जरूर शेयर करे। और अपनी राय कृपया comment में जरूर बताये , इससे मुझे motivation मिलता है की आप लोग मेरे आर्टिकल्स पढ़ते हो। इसलिये comment अवश्य किया करे…धन्यवाद।  Time Management in Hindi – समय को सही से मैनेज कैसे करे पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा शेयर करे फ्रेंड्स। 

Hello I am Sarabjeet Kaur from jamshedpur and i am founder of talkshauk.com. I have completed Diploma in Computer Engineering.

If u like this Post Please Share..

6 thoughts on “Time Management in Hindi – समय को सही से मैनेज कैसे करे”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *