Depression in Hindi-डिप्रेशन के लक्षण , कारण और इलाज जाने हिंदी में-

Depression in Hindi -डिप्रेशन के लक्षण , कारण और इलाज जाने हिंदी में :

नमस्कार दोस्तों , मैं सरबजीत कौर आपका स्वागत करती हूँ अपनी इस पोस्ट, Depression in Hindi में। इस पोस्ट में आप जानेंगे डिप्रेशन क्या है , इसके  लक्षण , कारण ,उपाय और मेरा कुछ अनुभव बिलकुल सरल शब्दो में। तो चलिए जानते है डिप्रेशन के बारे।

डिप्रेशन क्या है ? What is Depression in Hindi –

डिप्रेशन एक मानसिक बीमारी या स्थिति  है। जिसमे व्यक्ति लम्बे समय तक नाखुश और उदास रहता है , और नेगेटिव विचारो से घिरा रहता है। धीरे – धीरे  यह भयंकर रूप ले लेता है जिसे हम डिप्रेशन (Depression) कहते है। 

डिप्रेशन के लक्षण – Symptoms of Depression in Hindi-

Depression in Hindi

depression के लक्षण कुछ इस प्रकार है।

  • जो लोग depression से गुजरते है , वे दिन भर खिन्न महसूस करते है। उनकी आँखों में हमेशा आंसू रहते है, और वे अपने जज्बातो पर काबू नहीं रख पाते। वे छोटी- छोटी बातों पर रोने लगते है।
  • depression से गुजर रहे अधिकतर लोग शिकायते करते है , जैसे – अपनी नौकरी , काम , सम्बन्धो और मित्रो में रूचि नहीं रह गयी।
  • वजन तेजी से बढ़ना या तेजी से घटना, यह भी डिप्रेशन में ज्यादा दिखने वाले लक्षणों में से एक है।
  • डिप्रेशन का एक और बुरा लक्षण अनिंद्रा (नींद नहीं आना ) – थके होने के बावजूद भी नींद नहीं आती।
  • डिप्रेशन में व्यक्ति बहुत ही पस्त और थका हुआ महसूस करता है। सिर्फ मानसिक ही नहीं शारीरिक तौर पर भी , आँखों के नीचे सूजन , काले निशान यह सब डिप्रेशन के आम लक्षण है।
  • depression का एक और आम लक्षण है , ध्यान और एकाग्रता का कमजोर होना , डिप्रेशन रोगी की एकाग्रता धीरे – धीरे कमजोर होने लगती है। वे किसी से ठीक से बात नहीं कर पाते , उन्हें किसी की बात समझने में दिक्कत होती है। और वे आँखे मिला के बात नहीं कर पाते।
  • खुद को ignore करना , अकेले रहना, अपनी पसंद की चीज़े छोड़ देना यह भी depression के आम लक्षण है।
  • अतीत की सारी तस्वीरें बार – बार सामने लाना , यह भी डिप्रेशन का एक लक्षण है।
  • यह  लक्षण भी मैं आपसे शेयर करना चाहूंगी, जो मैं भी महसूस करती थी। कुछ डिप्रेशन से गुजर रहे मरीजों को रात होते ही डर लगने लगता है ,और सुबह थोड़ा डर कम हो जाता है। और वही कुछ को सुबह से डर लगता है। जब मैं डिप्रेशन में थी मुझे सुबह होने से बहुत डर लगता था ,

ये भी पढ़े : खुद को positive कैसे रखे 


डिप्रेशन के कारण – Causes of Depression in Hindi 

1 ) मानसिक आघात : परिवार में मृत्यु , या किसी अपने का दूर चला जाना , कार दुर्घटना जैसे बड़े मानसिक आघात। जिसका सदमा हम नहीं सहन कर पाते , फिर यह धीरे – धीरे डिप्रेशन का रूप ले लेता है। 

2 ) मौसमी प्रभाव विकार :  लोगो की मनोदशा पर मौसम का भी असर पड़ता है। जब सूरज आसमान में होता है , तो लोग ज्यादा खुश और ऊर्जावान महसूस करते है। 

3 ) भोजन और मनोदशा : आप  जो खाते है , वही आपकी मनोदशा पर असर डालता है ,आपका मस्तिष्क आपके body के साथ संवाद ( conversation) करे , इसके लिए इसे न्यूरोट्रांसमिटर्स (Neurotransmitters) नामक  रसायन (chemical) की जरूरत होती है , जो मानसिक तिरंगे (Mental tricolor) पहुंचाने का काम करता है। 

आपके शरीर को यह रसायन बनाने होते है , और यह आपके खाये भोजन में मौजूद कार्बोहाईड्रेट, प्रोटीन , खनिज , एमिनो एसिड्स ,  एन्ज़ाइम्स आदि के जरिये इन्हे बना लेता है।  यदि आप पर्याप्त सही भोजन नहीं ले रहे – तो डिप्रेशन या चिंता उत्पन्न हो सकती है। 

शोधकर्ताओ ने पाया है कि जो लोग ज्यादा जंक फ़ूड खाते है। उनमे depression (अवसाद) के लक्षणो की आशंका ज्यादा होती है।

4 ) आनुवंशिक लक्षण : अगर डिप्रेशन आनुवंशिक रूप से चला आ रहा है  तो  लगभग 40 – 50 % संभावना रहती है. इस बीमारी के ग्रस्त होने की। 


डिप्रेशन से बचने के कुछ उपाय –

1 ) अच्छा भोजन – नीचे मैंने पोषक पदार्थो की list दी है , जो शरीर के सही संतुलन को लौटने और डिप्रेशन तथा तनाव के प्रभाव को काम करने एवं उनसे बचने के लिए बहुत लाभदायक है। 

  • फलो और सब्जियों के रूप में कार्बोहाईड्रेटस , जैसे – गाजर , बीट , ब्रॉकोली , पत्तागोभी , पालक , टमाटर , संतरा , अनानास , चेरी और पपीता। 
  • सोयाबीन और सोया products .
  • बीन्स , Nuts , Dry Fruits .
  • Brown Rice , बाजरा , जौ जैसे खड़े अनाज।

2 ) नियमित रूप से खाये –  जब निराशा महसूस हो रही हो या दिनचर्या busy हो , तब खाना मुश्किल हो जाता है , बहरहाल , शरीर को भोजन से वंचित न रखे। इससे डिप्रेशन और चिंता बढ़ सकती है। 

3 ) हर दिन पर्याप्त पानी पीये – एक दिन में कम से कम 8 गिलास पानी जरूर पीये। 

4 ) विटामिन D और विटामिन B12 ले – 

विटामिन D : सुबह की धुप विटामिन – D का सबसे अच्छा स्रोत है। लेकिन दोपहर की नहीं। इसीलिए सुबह की धुप जरूर ले। 

डेरी प्रोडक्ट्स जैसे – दूध , पनीर ,गाजर का जूस पीये। मछली जैसे – ट्यूना और सालमोन, मशरुम खाये।

विटामिन B12 :सोयाबीन , सोया दूध आदि में विटामिन B12 की अच्छी मात्रा पायी जाती है। 

 

मेरा अनुभव ( My Experience )

जैसा मेरा अनुभव रहा है।  मैं आपसे यही कहूंगी, अगर आप या आपका कोई अपना इस चीज़ को face कर रहा है, डिप्रेशन से ज्यादा परेशान है तो सबसे पहले किसी अच्छे मनोचिकित्स्क से परामर्श में।

मैं यहाँ आपको कोई योग , exercise , आयुर्वेदिक या घरेलु उपचार नहीं बताऊँगी , क्यों जब हम डिप्रेशन में होते है, तो हम उस हालत में नहीं होते की direct ये सब करने लगे। अगर आप किसी सदमे के वजह से डिप्रेशन में गये है , तो सबसे पहले जो भी आपके साथ बुरा हुआ उस चीज़ को Accept करे। और उस Situation जिसके कारण आप डिप्रेशन में गये , अगर आप उसे नहीं बदल सकते तो खुद को बदलने की ठान ले ,

जाहिर सी बात है आपके साथ जो बुरा हुआ होगा जैसे – किसी की मृत्यु हो जाना या कुछ भी ऐसा। शायद आप उसे नहीं बदल सकते होंगे इसीलिए आप सदमे में चले गए। तो ऐसी Situation में आप खुद को बदलने की ठाने , इस चीज़ ने मुझे डिप्रेशन से निकलने में काफी मदद की। और आज मैं बिलकुल ठीक हो गयी हूँ , और खुद इस चीज़ को आप तक पहुँचा रही हूँ। 

 

depression in hindi
Dr . Sanjay Kumar Agarwal

मैं भी सबसे पहले  मनोचिकित्स्क के पास ही गयी थी , जमशेदपुर के मशहूर डॉक्टर Dr. Sanjay Kumar Agarwal जी  पास ,जिन्होंने मेरा treatment एवं कॉउंसलिंग किया था। उनका व्यहवार बहुत ही अच्छा है , उन्होंने मुझे बहुत अच्छे से समझया था, मुझे दवाईया दी ,बस एक साल होते – होते मैं बिलकुल ठीक हो गयी , और अब मैं कोई दवाईया नहीं लेती , बिलकुल अच्छी हूँ अब पहले से भी कई अच्छी और हमेशा सकारात्मक रहती हूँ। 

मैं Dr . Sanjay Kumar Agarwal जी का बहुत – बहुत धन्यवाद् करती हूँ , 


दोस्तों यह थी डिप्रेशन (अवसाद ) की जानकारी और मेरा छोटा सा अनुभव जो मैंने आपके साथ शेयर किया। कैसी लगी आपको मेरी यह पोस्ट Depression in Hindi-डिप्रेशन के लक्षण , कारण और इलाज जाने हिंदी में , comment के माध्यम से हमे जरूर बताये , अगर लाभदायक लगी हो तो अपने दोस्तों के साथ शेयर भी कर दे, धन्यवाद।

Hello I am Sarabjeet Kaur from jamshedpur and i am founder of talkshauk.com. I have completed Diploma in Computer Engineering.

If u like this Post Please Share..

8 thoughts on “Depression in Hindi-डिप्रेशन के लक्षण , कारण और इलाज जाने हिंदी में-”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *